Friday, March 8, 2013

इतिहासकार - और एक संवेदनशील कवि भी



पुरानी पीढ़ी - 1 


इस मितभाषी विद्वान के पास जानकारियों की नई से नई दुनिया मे झाँकने की अनूठी खिड़कियाँ हैं. लेकिन अभी तक लिखी किताबों मे उन जानकारियों का अंश मात्र ही आ पाया है. तोब्दन जी ऐसे इतिहासकार हैं, जो अपनी हाईपोथीसिज़ को कभी भी ब्लेक एंड व्हाईट मे नही लाते, जब तक कि उसे पर्याप्त प्रमाणों द्वारा 'एस्टेब्लिश' न कर लें. यह विनम्र, कर्मठ तथा दृढ़्प्रतिज्ञ इंसान मेरा आदर्श पुरुष है. तोबदन जी को हम इतिहासकार के रूप में जानते हैं .उन्हों ने इतिहास  की  सात किताबें लिखीं हैं  अंग्रेज़ी में .  बहुत कम लोग जानते हैं कि वे हिन्दी भाषा के विद्यार्थी रहे हैं और भोटी व्याकरण पर एक  पुस्तिका लिखी है . लेकिन उन्हे एक संवेदनशील कवि के रूप में कोई नहीं जानता .  मुझे याद है एक सेमिनार में उन्हों ने एक छोटी सी सुन्दर  कविता  भोटी भाषा में सुनाई थी . साथ में अनुवाद भी. हाल ही मे हिन्दी लघु पत्रिका अविराम में उन्हो ने अपनी एक सुन्दर रचना छपवाई है .यह कविता उन्हो ने मूल रूप से हिन्दी मे लिखी है .  आप सब के लिए शेयर कर रहा हूँ


जा रहा है आदमी


जा रहा है आदमी,
जाने किधर जा रहा है। 

चबा जाता है चट्टान को ,
रेत को खा जाता है ,
जंगल को निगल जाता है, 
जा रहा है आदमी । 

ज़मीन को उलट देता है,                
पहाड़ों में छेद कर देता है,
नदी को रोक देता है,
जा रहा है आदमी। 
                                                                             
तारे तोड़ कर लाता है,
नक्षत्र खराब करता है,
चाँद को छेड़ता है,                                                        
जा रहा है आदमी। 

देख रहे हैं, अचम्भित
चाँद और सूरज,
जा रहा है आदमी
धरती को समेटे ,
आकाश को ओढ़े  ,
जा रहा है आदमी । 

निष्क्रिय हैं सृष्टि के रचयिता ,
लाचार हैं विधि के लेखक ,
यमराज व्यग्र हैं ,
जा रहा है आदमी ।  

सब देख रहे हैं  , जा रहा है आदमी 
न जाने किधर जा रहा है आदमी  । 

                                                                                                              
Tobdan:
Birth: 1945 in Lahul, Himachal Pradesh. Education: BA, LL.B., Writes in English, Hindi and Bhoti. on History, Culture and Language related to the areas of Western Himalayas. Strong hold on the Tribal  history. Published seven books in English and one in Hindi/Bhoti on History etc. Runs an annual journal ‘Kunzom’ on the languages and culture of Himachal Pradesh. After retirement in 2004 from the NABARD wholly devoted to writing.

2 comments:

सुनीता said...

एक सुन्दर कविता शेयर करने के लिय शुक्रिया

roshan thakur said...

Thanx a lot